कैसे बनाएं सुख दुःख का संतुलन?

जीवन में हम जितने भी कार्य करते हैं वे सभी सुख की तैयारी के रूप में करते हैं, सुख के स्वागत के लिए करते हैं. हम अपने पूरे जीवन में एक बार भी दुःख के लिए कोई तैयारी नहीं करते जबकि हम ये जानते हैं कि प्रकृति के नियम के अनुसार हमारे जीवन में जितना स्थान सुख का है उतना ही स्थान दुःख का भी है.

Read More