20 लाख करोड़ रुपये के पैकेज की घोषणा

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कोरोनावायरस के संकट के बीच देश के लिए 20 लाख करोड़ रुपये के आर्थिक पैकेज की घोषणा की है.

मोदी ने यह घोषणा करते हुए कहा कि इतनी बड़ी आपदा, भारत के लिए एक संकेत लेकर आई है, एक संदेश लेकर आई है, एक अवसर लेकर आई है.

उन्होंने कहा कि जब कोरोना संकट शुरु हुआ, तब भारत में एक भी पीपीई किट नहीं बनती थी, एन-95 मास्क का भारत में नाममात्र उत्पादन होता था.

आज स्थिति यह है कि भारत में ही हर रोज 2 लाख पीपीई और 2 लाख एन-95 मास्क बनाए जा रहे हैं. ये हम इसलिए कर पाए, क्योंकि भारत ने आपदा को अवसर में बदल दिया.

नई इमारत पांच पिलर्स पर खड़ी होगी

मोदी ने कहा कि आत्मनिर्भर भारत की भव्य इमारत पांच पिलर्स पर खड़ी होगी.

पहला पिलर इकॉनमी, दूसरा पिलर इंफ्रास्ट्रक्चर, तीसरा पिलर हमारा सिस्टम, चौथा पिलर डेमोग्राफी और पांचवां पिलर डिमांड है.

उन्होंने देश के लिए 20 लाख रुपये के एक विशेष आर्थिक पैकेज की घोषणा की जो ‘आत्मनिर्भर भारत अभियान’ की अहम कड़ी के तौर पर काम करेगा.

ये पैकेज भारत की जीडीपी का करीब-करीब 10 प्रतिशत है. इन सबके जरिये देश के विभिन्न वर्गों को, आर्थिक व्यवस्था की कड़ियों को, 20 लाख करोड़ रुपये का संबल मिलेगा जो देश की विकास यात्रा को, आत्मनिर्भर भारत अभियान को एक नई गति देगा.

प्रधानमंत्री ने कामगारों की सराहना करते हुए कहा कि ये संकट इतना बड़ा है कि बड़ी से बड़ी व्यवस्थाएं हिल गई हैं लेकिन इन्हीं परिस्थितियों में देश ने हमारे गरीब भाई-बहनों की संघर्ष-शक्ति, उनकी संयम-शक्ति का भी दर्शन किया.

प्रधानमंत्री ने साथ ही सबको लोकल अपनाने का भी आग्रह किया क्योंकि देश को आगे बढ़ाने के लिए लोकल का इस्तेमाल बहुत जरूरी है. मोदी ने कहा कि आज से हर भारतवासी को अपने लोकल के लिए वोकल बनना है, न सिर्फ लोकल प्रोडक्ट्स  खरीदने हैं, बल्कि उनका गर्व से प्रचार भी करना है.

भारत बोलेगा: जानकारी भी, समझदारी भी

चर्चा में