टीन एज लव की शुरुआत करने वाले थे ऋषि कपूर

भारतीय फिल्मों के सबसे बड़े शोमैन राज कपूर ने अपनी महत्वाकांक्षी फिल्म मेरा नाम जोकर के कमर्शियल रूप से विफल होने के बाद टीन एज रोमांस को लेकर बॉबी बनाई.

बॉबी में उन्होंने अपने बेटे ऋषि कपूर को डिम्पल कपाड़िया के साथ लांच किया और यह फिल्म ब्लॉकबस्टर साबित हुई.

बॉबी ने राज कपूर को न केवल कर्जे से मुक्त किया बल्कि ऋषि को शौहरत के आसमान पर बिठा दिया, और अपने जीवन के अंत तक वह बुलंदियों पर रहे.

ऋषि कपूर

कोरोना-ग्रस्त अप्रैल जाते-जाते बॉलीवुड को दो आघात दे गया

ऋषि कपूर का 30 अप्रैल को मुंबई के एक अस्पताल में निधन हो गया और बॉलीवुड को लगातार दूसरे दिन गहरा झटका सहना पड़ा.

29 अप्रैल को बॉलीवुड के संजीदा अभिनेता इरफ़ान खान का निधन हुआ तो 30 अप्रैल को बॉलीवुड के सबसे चुलबुल अभिनेता ऋषि चल बसे.

ऋषि के प्रशंसकों को उनकी फिल्में ही उनकी याद दिलाती रहेंगी 

बॉलीवुड में 1973 में टीन एज रोमांस की शुरुआत करने वाले ऋषि कपूर चुलबुले अभिनेता से संजीदा अभिनेता बने और उन्होंने कई यादगार फिल्में दीं जिसे प्रशंसक दशकों तक याद करते रहेंगे.

यह भी दिलचस्प है कि ऋ्षि कपूर का निकनेम चिंटू था और वह अपने असली नाम के साथ निक नेम से भी मशहूर थे.

फिल्म इंडस्ट्री से ताल्लुक रखने वाले ज्यादातर लोग उन्हें चिंटूजी ही कहते थे.

अपने चार दशक के लंबे करियर में ऋषि ने लगभग 150 फिल्मों में अभिनय किया. बॉबी में टीन एज लवर, अमर अकबर एंथनी में पान खाते अकबर इलाहाबादी, कर्ज में रॉकिंग-डांसिंग स्टार, प्रेम रोग के संजीदा प्रेमी, दामिनी के समर्पित पति और अग्निपथ के खतरनाक राउफ लाला के उनके किरदारों को हमेशा याद रखा जाएगा.

ऋषि अपनी स्पष्टवादिता के लिए प्रसिद्ध थे और जवलंत मुद्दों पर अपनी राय देने से नहीं चूकते थे.

दो अप्रैल की शाम ऋषि कपूर ने आखिरी ट्वीट किया था, जिसमें उन्होंने कहा था, “मेरी हर धर्म और जाति के सभी भाइयों और बहनों से हाथ जोड़कर प्रार्थना है कि प्लीज हिंसा न करें… हमें मिलकर कोरोना से इस जंग को जीतना है…”

कपूर खानदान की परंपरा की तरह उन्होंने अपने पूरे जीवन को फिल्मों में जिया.

उन्होंने फिल्म अभिनेत्री नीतू सिंह से शादी की और पुत्र रणवीर कपूर भी अपने पिता की तरह एक प्रसिद्ध अभिनेता हैं और युवा दिलों की धड़कन हैं.

ऋषि खिलंदड़ थे, चुलबुले थे, सदाबहार थे, संजीदा थे और जिंदगी को जीने के शौक़ीन थे. इस साल की शुरुआत में उन्होंने यह तस्वीर ट्वीट करते हुए लिखा था –

“नमस्ते लता जी. आपके आशीर्वाद से देखिए मुझे अपनी दो या तीन महीने वाली अपनी पिक्चर मिल गई. सदा आपका आशीर्वाद रहा है मुझ पर. बहुत बहुत धन्यवाद. क्या मैं दुनिया को बता सकता हूं ये तस्वीर ट्विटर पे डाल के? ये एक बेशक़ीमती पिक्चर है मेरे लिए!”

उनके करियर की महत्वपूर्ण एवं उल्लेखनीय फिल्में

रफूचक्कर, जहरीला इंसान, जिंदादिल, राजा, खेल खेल में, कभी-कभी, अमर अकबर एंथनी, अनजाने, दुनिया मेरी जेब में, झूठा कहीं का, धन दौलत, दूसरा आदमी, हम किसी से कम नहीं, सरगम, कर्ज, प्रेम रोग, बदलते रिश्ते, जमाने को दिखाना है, कुली, दुनिया, सागर, नसीब अपना अपना, दोस्ती दुश्मनी, अजूबा, हिना, बोल राधा बोल, दीवाना, दामिनी, याराना, प्रेमगंथ, दरार, हमतुम, फना, अग्निपथ, नगीना, मुल्क, डी डे, औरंगजेब, लव आजकल, दिल्ली 6, 102 नाट आउट और द बॉडी.

भारत बोलेगा: जानकारी भी, समझदारी भी

चर्चा में