जानें क्या सचमुच रोटियों का पेड़ उगाया जा सकता है

आज फिर जीने की तमन्ना है सीरीज के इस पॉडकास्ट में आप सुनेंगे – क्या सचमुच रोटियों का पेड़ उगाया जा सकता है? हां, तो कैसे!

यह पॉडकास्ट आज फिर जीने की तमन्ना है सीरीज की ग्यारहवीं कड़ी है.

पॉडकास्ट में आपको लगातार एक-के-बाद-एक क़िस्सा सुना रहे हैं बबलू दिनेश शैलेंद्र. फ़िल्म डायरेक्टर होने के नाते फ़िल्मी कहानी सुनाने का बबलू दिनेश शैलेन्द्र का अनोखा अंदाज़ है.

सुनें और सुनाएं भारत बोलेगा पॉडकास्ट, जहां आपको जानकारी भी मिलती है और समझदारी भी.

इक दिन वो मां से बोला क्यों फूंकती है चूल्हा, क्यों ना रोटियों का पेड़ हम लगा लें; आम तोड़ें रोटी तोड़ें… इस सीरीज के सभी पॉडकास्ट सुनने के लिए यहां क्लिक करें.


भारत बोलेगा: जानकारी भी, समझदारी भी