कैसे लिखा गया दाग का सुपरहिट गाना ‘ऐ मेरे दिल कहीं और चल’

G Caffe creative agency offering branding solutions via GCP

आज फिर जीने की तमन्ना है सीरीज की नौवीं कड़ी में सुनें कैसे लिखा गया दाग फ़िल्म का सुपरहिट गाना ऐ मेरे दिल कहीं और चल.

फ़िल्म डायरेक्टर होने के नाते फ़िल्मी कहानी सुनाने का बबलू दिनेश शैलेन्द्र का अनोखा अंदाज़ है. सुनें और सुनाएं भारत बोलेगा पॉडकास्ट, जहां आपको जानकारी भी मिलती है और समझदारी भी.

आज फिर जीने की तमन्ना है पॉडकास्ट
आज फिर जीने की तमन्ना है सीरीज के सभी पॉडकास्ट सुनने के लिए यहां क्लिक करें

भारत बोलेगा के इस पॉडकास्ट में दाग फ़िल्म के जिस गाने का ज़िक्र है वह एक मास्टरपीस कहलाता है. फ़िल्म में मुख्य रोल में थे एक्टर दिलीप कुमार और निम्मी. इस फ़िल्म को डायरेक्ट किया था अमिया चक्रबर्ती ने.

ऐ मेरे दिल कहीं और चल
ऐ मेरे दिल कहीं और चल…

1952 में बनी हिन्दी भाषा की इस फिल्म में संगीत दिया था शंकर जयकिशन ने जबकि जिस गाने का ज़िक्र इस पॉडकास्ट में किया गया है उसे लिखा था गीतकार शैलेन्द्र ने. गाने को आवाज़ दी थी तलत महमूद और लता मंगेशकर ने.

#मेरा_गांव #चलो_गांव_की_ओर #भारतबोलेगा


भारत बोलेगा: जानकारी भी, समझदारी भी