महान बनना है विराट तो जीतना होगा विश्व कप

विराट कोहली

हर किसी खिलाड़ी के जीवन का सबसे बड़ा सपना होता है कि वह विश्व कप या ओलंपिक जैसे महाआयोजन में अपने देश का प्रतिनिधित्व करे और यदि ऐसे आयोजन में वह अपने देश के लिए विश्व खिताब या ओलंपिक पदक जीत ले तो वह रातों रात महानता की श्रेणी में पहुंच जाता है.

भारतीय क्रिकेट कप्तान विराट कोहली दुनिया के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज हैं, इस बात को दुनिया का हर क्रिकेटर मानता है लेकिन यदि विराट को सर्वश्रेष्ठ से ऊपर उठकर महान बनना है तो उन्हें इंग्लैंड की जमीन पर भारत को विश्व चैंपियन बनाना होगा.

पेले, डिएगो माराडोना और जिनेदिन जिदान महान क्यों हैं क्योंकि उन्होंने सिर्फ अपने दम पर ब्राजील, अर्जेंटीना और फ्रांस को विश्व कप फुटबॉल का चैंपियन बनाया है.

क्रिस्टियानो रोनाल्डो और लियोनल मैसी इस समय दुनिया के सर्वश्रेष्ठ फुटबॉलर हैं लेकिन वे महान नहीं हैं क्योंकि वे अपने दम पर पुर्तगाल और अर्जेंटीना को विश्व खिताब नहीं दिला पाए हैं.

कपिल देव दुनिया के अपने समय के चार सर्वश्रेष्ठ आलराउंडर में एक थे लेकिन उन्होंने 1983 में उस समय महानता को छू लिया था जब उन्होंने क्लाइव लॉयड की शक्तिशाली वेस्ट इंडीज की टीम को पराजित कर भारत को पहली बार विश्व चैंपियन बना दिया था.

सचिन तेंदुलकर को क्रिकेट का लीजेंड खिलाड़ी कहा जाता है लेकिन उनका भी सपना था कि वह अपने हाथों में विश्व कप उठाएं.

उनका यह सपना उनके छठे विश्व कप में जाकर पूरा हुआ था और उनके इस सपने को पूरा किया था महेंद्र सिंह धोनी ने, जिनके छक्के ने भारत को 2011 के विश्व कप में खिताब दिलाया था और धोनी को महान खिलाड़ियों की श्रेणी में ला खड़ा किया था.

इमरान खान बेहतरीन आलराउंडर थे लेकिन 1992 में उन्होंने पाकिस्तान को विश्व चैंपियन बनाकर महानता की पराकाष्ठा को छू लिया था. श्रीलंका को 1996 में विश्व विजेता बनाकर अर्जुन रणतुंगा भी रातों रात महान बन गए थे.

एलेन बॉर्डर ने 1987 में ऑस्ट्रेलिया को पहली बार विश्व विजेता बनाकर महान होने का दर्जा हासिल कर लिया था.

स्टीव वा ने 1999 और रिकी पोंटिंग ने 2003 और 2007 तथा माइकल क्लार्क ने 2015 में ऑस्ट्रेलिया को विश्व चैंपियन बनाकर खुद को महान खिलाड़ियों की श्रेणी में ला खड़ा किया था.

विराट इस समय दुनिया के नंबर एक बल्लेबाज हैं, आईसीसी ने उन्हें वर्ष का सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी घोषित करने के साथ-साथ अपनी टेस्ट और वनडे टीमों का कप्तान भी घोषित किया है, विराट की कप्तानी में भारत ने अंडर-19 विश्व कप जीता है लेकिन कोहली का विराट टेस्ट तो 30 मई से इंग्लैंड में आयोजित विश्व कप में होना है जहां उन पर भारत को विश्व विजेता बनाने की जिम्मेदारी रहेगी.

विराट ने इंग्लैंड के लिए रवाना होने से पहले कहा था कि विश्व कप में दबाव को झेलने वाला ही चैंपियन बनेगा. विराट पर सवा सौ करोड़ भारतीयों की उम्मीदों का दबाव होगा और इस दबाव से वह कैसे निपटते हैं और कैसे भारत को विश्व कप दिलाते हैं, यही बात उन्हें महान बनाएगी.

चर्चा में