पोप: ईसाई जीवन बुराई के खिलाफ एक लड़ाई है

ईसाई जीवन में अनेक प्रलोभन मिल सकते हैं, लेकिन जो ईश्वर में विश्वास करते हैं वैसे वफादार लोग संघर्ष से निराश नहीं होते बल्कि चर्च की प्रार्थनाओं से आश्वस्त और मजबूत होते हैं.

पोप फ्रांसिस के अनुसार, “बुराई के खिलाफ लड़ना मुश्किल है. धोखाधड़ी से बचना भी मुश्किल है और एक थकाऊ संघर्ष के बाद पुनः ताकत हासिल करना भी उतना ही मुश्किल है. लेकिन, हमें पता होना चाहिए कि सभी ईसाई जीवन एक लड़ाई है.”

उन्होंने कहा कि हमें यह पता होना चाहिए कि हम अकेले नहीं हैं, हमारे चर्च प्रार्थना करते हैं कि हमारे बच्चे बुराई के जाल में नहीं फंसे.

पोप फ्रांसिस ने कहा, हम अपने व्यक्तिगत अनुभव से जानते हैं कि ईसाइयों को भी ईश्वर से दूर जाने के लिए द्वार दिखाए जाते हैं. कई ऐसी चुनौतियां भी आती हैं जब लगता है जैसे कोई शेर हमें खा जाएगा, लेकिन दिन प्रतिदिन का संघर्ष से हमें ताकत मिलती है.

“हमें बुराइयों के खिलाफ लड़ने के लिए प्ररणा मिलती है. इसलिए हमें दुनिया को अंधकार से उजाले की ओर ले ही जाना है.” उन्होंने कहा, चर्च की प्रार्थना हमेशा सक्रिय होती है, यह निरंतर होती रहती है. चर्च जरूरतमंद लोगों के लिए प्रार्थना करते रहते हैं.

चर्चा में