आपके लिए क्यों ज़रूरी है जीसीपी

कस्टमर या क्लाइंट को अपने काम के बारे में बताना एक कला है. आपका नाम और काम बड़ी ईमानदारी से लोगों तक पहुंचना चाहिए.

अगर तरीका लुभावना हो व बातें सच्ची हों तो लोगों में आपके प्रति विश्वास जागता है. इस प्रक्रिया में जीसीपी से आपको भरपूर मदद मिलती है, यह कहना है जी कैफ़े क्रिएटिव एजेंसी की सीईओ गीतांजलि कौल का.

क्या है जीसीपी और इसके फायदे

जीसीपी यानी जी सर्टिफाइड प्रोग्राम. इस प्रोग्राम के अंतर्गत आपको जी कैफ़े क्रिएटिव एजेंसी तीन ब्रांडिंग प्लान उपलब्ध कराती है – जी प्राइम, जी प्रीमियम और जी एलीट.

गीतांजलि कौल कहती हैं कि ब्रांडिंग अच्छे कंटेंट से होती है और तीनों ही प्लान में ऐसी सेवाएं दी जाती हैं जिनसे आपको ब्रांड बनने में सहूलियत हो.

आपकी ब्रांडिंग आसान बनाता है जीसीपी

गीतांजलि कौल के अनुसार अलग-अलग तरीकों से आपके काम को लोगों तक पहुंचाने की प्रक्रिया जटिल न हो, इसलिए आपको चाहिए जीसीपी.

जीसीपी की वेबसाइट पर सारे विकल्प दिए गए हैं जिन्हें देखकर आप आसानी से खुद से अपना प्लान चुन सकते हैं.

खुद तय करें आपको कैसी ब्रांडिंग चाहिए

आप सिर्फ़ अपनी प्रोफाइल बनवाना चाहते हैं तो वह विकल्प भी जीसीपी वेबसाइट पर मौजूद है. आप अपनी ब्रांड आइडेंटिटी डिजाईन से ही संतुष्ट होना चाहते हों, तो वह भी ऑप्शन आपको मिलता है.

यह पूछने पर कि जीसीपी की सबसे ख़ास बात क्या है, उन्होंने कहा कि “इससे आपके बजट में आपकी ब्रांडिंग होती है ताकि आप संभाले अपना काम और जीसीपी से फैले आपका नाम.”

जीसीपी आपको रखता है 24×7 ऑनलाइन

आजकल ऑनलाइन बने रहना ज़रूरी है और उससे भी ज़्यादा ज़रूरी है गूगल सर्च करने पर आपका नाम व काम दिखना जिसमें आपकी मदद करता है जीसीपी.

विभिन्न प्लान की सारी जानकारी जीसीपी वेबसाइट पर उपलब्ध है. गीतांजलि कौल के अनुसार जिन लोगों ने भी जीसीपी प्लान लिए हैं उन सभी का कहना है कि जीसीपी का लाभ उन्हें पूरा मिला है.

उनके काम को सराहा जा रहा है. उन्हें क्लाइंट भी मिल रहे हैं और इन्वेस्टर भी. यानी उनके विषय में तमाम लोगों को जानकारी पहुंच रही है. वे लोगों का भरोसा जीतने में सफल हुए हैं.

गीतांजलि कौल का कहना है कि खुद पर इन्वेस्ट करने का जीसीपी एक अच्छा अवसर है. अपनी ब्रांडिंग करने के साथ-साथ ऑनलाइन होना इतना आसान शायद पहले कभी नहीं था. जीसीपी वेबसाइट इस लिंक पर क्लिक कर देखी जा सकती है.

भारत बोलेगा: जानकारी भी, समझदारी भी

चर्चा में