सत्तू करे गर्मी शांत

सत्तू अपने आप में एक पूर्ण आहार है. यह पचने में आसान, हल्का, पौष्टिक और शीतल होता है. इसलिए गर्मियों में इसे खाने से आप गर्मी से तो बचते ही हैं, साथ ही शरीर स्वस्थ भी रहता है. यह आपको कई रोगों से बचाता है.

सत्तू से होने वाले फायदे

1.साबूत अनाज का इस्तेमाल होने से सत्तू फाइबर से भरपूर होता है जो पेट के लिए फायदेमंद है. फाइबर युक्त होने से यह भूख को शांत करता है, यह लंबे समय तक पेट के भरे होने का एहसास दिलाता है. इस वजह से यह वजन कम करने में मदद करता है. 

2.गर्मी के दिनों में सत्तू के सेवन करने से गर्मी के दुष्प्रभाव और लू से बचा जा सकता है. साथ ही साथ पेट में गैस की समस्या दूर होती है और आसानी से पच जाने के कारण कब्ज की शिकायत में आराम मिलता है.

3.इसमें लो ग्लाइसेमिक इंडेक्स होता है जिस कारण यह डाइबिटीज के रोगियों के लिए फायदेमंद होता है.

4.ब्लड प्रैशर की समस्या में इसे रोज खाने से बी.पी. कंट्रोल में रहता है. इसे नींबू, नमक, जीरा और पानी मिलाकर खाएं या सिर्फ हलके चीनी-पानी का घोल बनाकर लें.

5.शरीर में कमजोरी होने पर यह तुरंत ऊर्जा देने का काम करता है. इसमें बहुत से पोषक तत्व पाए जाते हैं जो शरीर को पोषण प्रदान करते हैं. 

6.यह प्रोटीन का बहुत अच्छा स्रोत है. इसे खाने से लीवर की समस्या दूर होती है, साथ ही यह पेट की परेशानियों को दूर करता है.

7.यह बढ़ते बच्चों के लिए बहुत अच्छा पौष्टिक आहार है. रोज दो चम्मच सत्तू का सेवन बढ़ते बच्चों के स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद है.  

साबूत अनाज का इस्तेमाल होने से सत्तू फाइबर से भरपूर होता है जो पेट के लिए फायदेमंद है. फाइबर युक्त होने से यह भूख को शांत करता है, यह लंबे समय तक पेट के भरे होने का एहसास दिलाता है. इस वजह से यह वजन कम करने में मदद करता है.

इसका रखें खास ध्यान

1.सत्तू का सेवन खाना खाने के तुरंत पहले या तुरंत बाद कभी नहीं करना चाहिए.

2.इसे बहुत अधिक मात्रा में नहीं खाना चाहिए क्योंकि यह पेट में जाकर भारी हो सकता है.

3.खासकर रात के समय सत्तू का सेवन करने से बचें.

4.सत्तू को ताजे पानी में घोलना चाहिए, गरम पानी में नहीं. इसमें पानी अधिक मात्रा में न मिलाएं. इसे दूध के साथ नहीं खाएं तो बेहतर.

5.इसका सेवन करते समय बीच-बीच में पानी न पीएं.

चर्चा में