ट्विटर, इंस्टाग्राम सरकार

सूचना क्रांति और डिजिटल इंडिया चिलाते-चिल्लाते सरकार ट्विटर और इंस्‍टाग्राम से ऊपर नहीं उठ पा रही है. ऐसा लग रहा है ट्विटर और इंस्‍टाग्राम अब सिर्फ सोशल मीडिया नहीं रह गया है बल्कि सरकार का ऑफिशिअल स्पोक्समैन (सरकारी प्रवक्ता) बन गया है. छत्तीसगढ़ के सुकमा में हुए नक्सली हमले से जहां देश हिल गया है वहीं सरकार फिर से इसे महज चुनौती बताते हुए ट्विटर का सहारा ले रही है और ट्विटर के ही माध्यम से सांत्वना भी दे रही है. इस हमले में सीआरपीएफ (केंद्रीय रिज़र्व पुलिस फोर्स) के…

Read More

योगी पानी कैसे पीते हैं

योगी स्टील गिलास से पानी पीते हैं. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के बारे में यह खबर भी ब्रेकिंग न्यूज़ की तरह टेलीविजन चैनलों पर परोसी गई. योगी की तमाम जानकारियां देने के अलावा इस औपचारिकता को भी राष्ट्रीय कहे जाने वाले न्यूज़ चैनलों ने पूरा किया. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर ऐसे खुलासे या रहस्योद्घाटन हों तो समझा जा सकता है कि समाचार परोसने में कैसी होड़ लगी हुई है. पहले योगी के बाल और दाढ़ी ना बढ़ने का राज सामने आया तो फिर पानी पीने के तरीक़े का ख़ुलासा…

Read More

गेमचेंजर सुरंग से सेब आएंगे?

रस्‍म तो अदा हो गई है. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने दो अप्रैल को जम्मू-कश्मीर राजमार्ग पर भारत की सबसे लंबी सड़क सुरंग का उद्घाटन करने के बाद अपने भाषण में इसे कश्मीर की तक़दीर बदलने वाली सुरंग भी कह दी है. लेकिन, पूरा भारत जहां इस सुरंग का इस्तेमाल कर कश्मीर जल्दी पहुंच सकता है, सुरंग के उस पार से कश्मीर की आबादी इस पार कब आएगी, यह देखना महत्वपूर्ण है. उद्घाटन के दौरान मोदी का यह कहना कि अब ये कश्मीरी नौजवानों पर है कि वो या तो टेररिज़्म…

Read More

यूपीएससी अध्यक्ष सिम्‍लिह

डेविड आर सिम्‍लिह ने तीन अप्रैल को संघ लोक सेवा आयोग यानी यूपीएससी के अध्यक्ष के रूप में शपथ ली. सिम्‍लिह 25 जून 2012 को आयोग के एक सदस्य बने थे और उन्‍हें इस साल चार जनवरी को यूपीएससी के अध्‍यक्ष पद पर नियुक्त किया गया था. यूपीएससी में पदभार संभालने से पूर्व सिम्‍लिह, राजीव गांधी विश्वविद्यालय, इटानगर के कुलपति थे. इन्होंने विभिन्न नीति निर्माण, शैक्षिक और प्रशासनिक निकायों में कई महत्वपूर्ण पदों पर काम किया है. इन्होंने कई पुस्तकों व प्रकाशनों का लेखन एवं संपादित भी किया है. सिम्‍लिह…

Read More

ईवीएम और कहां कहां हारेगा

ईवीएम पर दोष इसलिए भी मढ़ा जा रहा है क्योंकि कोई नेता अपनी हार पर चर्चा नहीं चाहता. तभी तो राजनीतिक दल इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन के साथ छेड़छाड़ की आशंका दबने नहीं दे रही हैं. संसद में भी चुनाव सुधार चर्चा की आड़ में लगभग सभी हारी हुई पार्टियों ने अपनी बौखलाहट ईवीएम पर उतारी है. सबसे जबर्दश्त हार का सामना जिस पार्टी को करना पड़ा है, वो है समाजवादी पार्टी, जिसका उत्तर प्रदेश में सूपड़ा साफ हो गया. इसलिए राज्यसभा में सबसे आगे बढ़कर इसी पार्टी ने मामला उठाया. कांग्रेस सदस्य…

Read More